October 2020

रऊफ़ खैर की रचनाएँ

अगर अनार में वो रौशनी नहीं भरता अगर अनार में वो रौशनी नहीं भरता तो ख़ाक-सार दम-ए-आगही नहीं भरता ये…

12 months ago

रउफ़ ‘रज़ा’ की रचनाएँ

हर मौसम में ख़ाली-पन की मजबूरी हो जाओगे हर मौसम में ख़ाली-पन की मजबूरी हो जाओगे इतना उस को याद…

12 months ago

रईसुदीन रईस की रचनाएँ

हवा नमनाक होती जा रही है हवा नमनाक होती जा रही है हवेली ख़ाक होती जा रही है दरीचा खोलते…

12 months ago

रईस सिद्दीक़ी की रचनाएँ

और कुछ तेज़ चलीं अब के हवाएँ शायद  और कुछ तेज़ चलीं अब के हवाएँ शायद घर बनाने की मिलीं…

12 months ago

रंजूर अज़ीमाबादी की रचनाएँ

देता है मुझ को चर्ख़-ए-कुहन बार बार दाग़  देता है मुझ को चर्ख़-ए-कुहन बार बार दाग़ उफ़ एक मेरा सीना…

12 months ago

रंजीता सिंह फ़लक की रचनाएँ

तुम्हारा इन्तज़ार कई प्रतिक्षाएँ होती हैं अन्धी अन्तहीन सुरँग-सी, जिनमें आँख की कोर से प्यार के मौसम में खिले ढेर…

12 months ago

रंजीत वर्मा की रचनाएँ

  नहीं देख पाऊंगा यह सच दिल्ली की सड़कें कितनी वीरान है यह मैंने जाना तुम्हारे जाने के बाद तुम…

12 months ago

रंजना सिंह ‘अंगवाणी बीहट की रचनाएँ

माँ शारदे वंदना  करती सदा, ये कामना, मन में बसे, ये भावना। करती रहूँ, माँ याचना। तेरी करूँ , मैं…

12 months ago

रंजना वर्मा की रचनाएँ

आप आयेंगें जान आयेगी आप आयेंगे जान आयेगी पंछियों में उड़ान आयेगी ये कलम आप की बदौलत ही ले के'…

12 months ago