आलम

आलम की रचनाएँ

ऐसौ बारौ बार याहि बाहरौ न जान दीजै ऐसौ बारौ बार याहि बाहरौ न जान दीजै, बार गए बौरी तुम…

2 months ago