ऐन रशीद की रचनाएँ

मेरे बाद आ बदलेगा रंग शाम-ए-आलम मेरे बाद आ होगा ज़रा सा दर्द भी कम मेरे बाद आ तन्हाइयाँ भी…

2 months ago

ऐतबार साज़िद की रचनाएँ

भीड़ है बर-सर-ए-बाज़ार कहीं और चलें  भीड़ है बर-सर-ए-बाज़ार कहीं और चलें आ मेरे दिल मेरे ग़म-ख़्वार कहीं और चलें…

2 months ago

ऐश’ देलहवी की रचनाएँ

कुछ कम नहीं है शम्मा से दिल की कुछ कम नहीं है शम्मा से दिल की लगन में हम फ़ानूस…

2 months ago