कबीर अजमल

कबीर अजमल की रचनाएँ

कुछ तअल्लुक भी नहीं रस्म-ए-जहाँ से आगे कुछ तअल्लुक भी नहीं रस्म-ए-जहाँ से आगे उस से रिश्ता भी रहा वहम…

2 months ago