कुमार अनिल

कुमार अनिल की रचनाएँ

और कब तक चुप रहें (ग़ज़ल)  ज़ुल्म है अब हद से बाहर, और कब तक चुप रहें सामने है ख़ूनी…

2 months ago