गंगाराम परमार

गंगाराम परमार की रचनाएँ

बोल के तो देख अन्धकार है, तो अन्धकार बोल के तो देख सरकार है, तो सरकार बोल के तो देख…

2 months ago