जलील आली

जलील आली की रचनाएँ

आँख में परतव-ए-महताब सलामत रह जाए आँख में परतव-ए-महताब सलामत रह जाए कोई सूरत हो कि इक ख़्वाब सलामत रह…

4 weeks ago