जानकी प्रसाद द्विवेदी

जानकी प्रसाद द्विवेदी की रचनाएँ

दोहा / भाग 1 परम पुरुष कवि जानकी, बन्दत हौं सिर नाय। निज ही अनुभव तें हिए, जो प्रभु जान्यो…

4 weeks ago