त्रिभवन कौल

त्रिभवन कौल की रचनाएँ

बेचारा आम आदमी गाँधी जी के तीन बंदरतीनो मेरे अन्दरकुलबुलाते हैंबुरा मत देखो, बुरा मत सुनो, बुरा मत कहोपर देखता…

3 months ago