बिस्मिल अज़ीमाबादी

बिस्मिल अज़ीमाबादी की रचनाएँ

सरफ़रोशी की तमन्ना सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है देखना है ज़ोर कितना बाज़ु-ए-कातिल में है एक से…

3 months ago