मंगलेश डबराल

मंगलेश डबराल की रचनाएँ

अन्तराल हरा पहाड़ रात में सिरहाने खड़ा हो जाता है शिखरों से टकराती हुई तुम्हारी आवाज़ सीलन-भरी घाटी में गिरती…

3 weeks ago