मजीद ‘अमज़द’

मजीद ‘अमज़द’ की रचनाएँ

और अब ये कहता हूँ ये जुर्म तो रवा रखता ‎ और अब ये कहता हूँ ये जुर्म तो रवा…

5 days ago