रणजीत

रणजीत की रचनाएँ

जूझती प्रतिमा नहीं रहा मैं अपने पथ पर आज अकेला क्योंकि तुम्हारी भी आँखों में कल के विकल स्वप्न जागे…

1 month ago