रवि कुमार

रवि कुमार की रचनाएँ

मैं जाग रहा होता हूँ रात रात जबकि सभी लगे हैं इमारतों की उधेड़बुन में मैं एक बुत तराश रहा…

3 weeks ago