राजरानी देवी

राजरानी देवी की रचनाएँ

पद / 1 मृग-मन हारे मीन खंजन निहारि वारे, प्यारे रतनारे कजरारे अनियारे हैं। पैन सर धारे कारी भृकुटि धनुष-वारे,…

3 weeks ago