वसीम बरेलवी

वसीम बरेलवी की रचनाएँ

मुहब्बतों के दिनों की यही ख़राबी है तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते इसीलिए तो तुम्हें हम नज़र…

2 months ago