श्र

श्रद्धा जैनकी रचनाएँ

तुम्हें भी आँख में तब क्या नमी महसूस होती है ?  ख़ुशी बेइंतहा जब भी कभी महसूस होती है तुम्हें…

3 months ago

श्रद्धा राम फिल्‍लौरी की रचनाएँ

ओम जय जगदीश हरे (1) ॐ जय जगदीश हरे स्वामी जय जगदीश हरे भक्त जनों के संकट दास जनों के…

3 months ago

श्रीकांत वर्मा की रचनाएँ

कुछ का व्यवहार बदल गया कुछ का व्यवहार बदल गया। कुछ का नहीं बदला। जिनसे उम्मीद थी, नहीं बदलेगा उनका…

3 months ago

श्रीजुगलप्रिया की रचनाएँ

पद / 1  राधा चरन की हूँ सरन। छत्र चक्र सुपह्म राजत सुफल मनसा करन॥ उर्ध्व रेखा जब धुजादुति सकल…

3 months ago

श्रीपति की रचनाएँ

बैठी अटा पर, औध बिसूरत बैठी अटा पर, औध बिसूरत पाये सँदेस न 'श्रीपति पी के। देखत छाती फटै निपटै,…

3 months ago

श्रीनिवास श्रीकांत की रचनाएँ

देहात के लोग वे अपने वस्त्र ख़ुद सिलते थे सफ़र में जाने से पूर्व उन्हें नहीं थी गाड़ी की दरकार…

3 months ago

श्रीप्रसाद की रचनाएँ

सुबह  सूरज की किरणें आती हैं, सारी कलियाँ खिल जाती हैं, अंधकार सब खो जाता है, सब जग सुन्दर हो…

3 months ago

श्रीकृष्ण सरल की रचनाएँ

सरल अभिलाषा  नहीं महाकवि और न कवि ही, लोगों द्वारा कहलाऊँ सरल शहीदों का चारण था, कहकर याद किया जाऊँ…

3 months ago

श्रीनाथ सिंह की रचनाएँ

सीखो फूलों से नित हँसना सीखो, भौंरों से नित गाना। तरु की झुकी डालियों से नित, सीखो शीश झुकाना! सीख…

3 months ago

श्रीप्रकाश शुक्ल की रचनाएँ

एक स्त्री घर से निकलते हुए भी नहीं निकलती एक स्त्री घर से निकलते हुए भी नहीं निकलती वह जब…

3 months ago