श्रीजुगलप्रिया

श्रीजुगलप्रिया की रचनाएँ

पद / 1  राधा चरन की हूँ सरन। छत्र चक्र सुपह्म राजत सुफल मनसा करन॥ उर्ध्व रेखा जब धुजादुति सकल…

3 months ago