संजय मिश्रा ‘शौक’

संजय मिश्रा ‘शौक’ की रचनाएँ

कई सूरज कई महताब रक्खे कई सूरज कई महताब रक्खे तेरी आँखों में अपने ख्वाब रक्खे हरीफों से भी हमने…

2 months ago