संजय शेफर्ड

संजय शेफर्ड की रचनाएँ

मुठ्ठी भर लड़ाईयां  जिन पैरों को अथाह दूरी नापनी थी वह वस्तुतः थक चुके थे और मैंने कहीं पढ़ा भी…

2 months ago