सजीव सारथी

सजीव सारथी की रचनाएँ

मिलन हम मिलते रहे, रोज मिलते रहे, तुमने अपने चेहरे के दाग, पर्दों में छुपा रखे थे, मैंने भी सब…

2 months ago