सफ़ी औरंगाबादी

सफ़ी औरंगाबादी की रचनाएँ

न अपने बस में है रोना न हाए हँस देना न अपने बस में है रोना न हाए हँस देना…

2 months ago