सरदार अंजुम

सरदार अंजुम की रचनाएँ

हैदराबाद धमाकों पर 1). अपाहिज बनके जीने की अदा अच्छी नहीं लगती जो सूली तक न ले जाए सजा अच्छी…

2 months ago