सरफ़राज़ ज़ाहिद

सरफ़राज़ ज़ाहिद की रचनाएँ

ऐसी वैसी पे क़नाअत नहीं कर सकते हम  ऐसी वैसी पे क़नाअत नहीं कर सकते हम दान ये फ़क्ऱ की…

2 months ago