सरवर आलम राज़ ‘सरवर’

सरवर आलम राज़ ‘सरवर’ की रचनाएँ

दिल पे गुज़रे है जो बता ही दे दिल पे गुज़रे है जो बता ही दे दास्तान अब उसे सुना…

2 months ago