सरहपा

सरहपा की रचनाएँ

राहुल सांकृत्यायन द्वारा अनूदित वज्रगीतियाँ जिमि पवन-घाते अचल जल जिमि पवन-घाते अचल जल, चलै तरंगित होइ । जिमि मूढ़ विलोम…

2 months ago