सहबा अख़्तर

सहबा अख़्तर की रचनाएँ

असनाम-ए-माल-ओ-ज़र की परस्तिश सिखा गई असनाम-ए-माल-ओ-ज़र की परस्तिश सिखा गई दुनिया मुझे भी आबिद-ए-दुनिया बना गई वो संग-ए-दिल मज़ार-ए-वफ़ा पर…

1 month ago