सांवर दइया

सांवर दइया की रचनाएँ

काल थे खुद  आ गूंग थांरी फोड़ा घालसी कदैई थांनै ई मिनख नै मार-मार मोदीजो भलांई मन में पण काल…

2 months ago