साबिर

साबिर की रचनाएँ

हमारी बेचैनी उस की पलकें भिगो गई है हमारी बेचैनी उस की पलकें भिगो गई है ये रात यूँ बन…

1 month ago