सारा शगुफ़्ता

सारा शगुफ़्ता की रचनाएँ

आतिश-दान आतिश-दानों से अपने दहकते हुए सीने निकाल लो वर्ना आख़िर दिन आग और लकड़ी ओ अशरफ़-उल-मख़्लूक़ बना दिया जाएगा…

1 month ago