सुंदरदास

सुंदरदास की रचनाएँ

तेल जरै बाती जरै, दीपक जरै न कोइ तेल जरै बाती जरै, दीपक जरै न कोइ। दीपक जरताँ सब कहै,…

1 month ago