हरीसिंह पाल

हरीसिंह पाल की रचनाएँ

धरती छोटी है  न थककर बैठ, यह धरती तुझसे छोटी है। कोई ऐसा नहीं थका दे, तेरे थके बिना सब…

3 months ago