हसरत जयपुरी

हसरत जयपुरी की रचनाएँ

अब्शारे-गज़ल  ये कौन आ गई दिलरुबा ये कौन आ गई दिलरुबा महकी महकी फ़िज़ा महकी महकी हवा महकी महकी वो…

3 months ago