हेमन्त शेष

हेमन्त शेष की रचनाएँ

दूसरा दर्ज़ा दोपहर का वक़्त था वह पर ठीक दोपहर जैसा नहीं, नदी जैसी कोई चीज़ भागती हुई खिड़की से…

3 months ago