Poetry

फ़व्वाद अहमद की रचनाएँ

गली में ज़र्फ़ से बढ़ का मिला मुझे गली में ज़र्फ़ से बढ़ का मिला मुझे इक प्याला-ए-जुस्तुजू थी समुंदर…

7 days ago

Poem by Michael Rosen

Chocolate Cake   I love chocolate cake. And when I was a boy I loved it even more. Sometimes we…

1 week ago

Poem by William Wordsworth

I Wandered Lonely As A Cloud (Daffodils) I wandered lonely as a cloud That floats on high o'er vales and…

1 week ago

BY JANUARY GILL O’NEIL

Sunday You are the start of the week or the end of it, and according to The Beatles you creep…

1 week ago

BY WELDON KEES

For My Daughter Looking into my daughter’s eyes I read Beneath the innocence of morning flesh Concealed, hintings of death…

1 week ago

BY ZBIGNIEW HERBERT

The Envoy of Mr. Cogito TRANSLATED BY BOGDANA CARPENTER Go where those others went to the dark boundary for the…

1 week ago

फ़र्रुख़ ज़ोहरा गीलानी की रचनाएँ

बीते लम्हे कशीद करती हूँ बीते लम्हे कशीद करती हूँ इस तरह जश्न-ए-ईद करती हूँ जब भी जाती हूँ शहर-ए-शीशागराँ…

1 week ago

फ़रीद खान की रचनाएँ

मेरा ईश्वर मेरा और मेरे ईश्वर का जन्म एक साथ हुआ था । हम घरौन्दे बनाते थे, रेत में हम…

1 week ago

फ़रीद क़मर की रचनाएँ

हमने समझा था कि बस इक कर्बला है ज़िन्दगी हमने समझा था कि बस इक कर्बला है ज़िन्दगी कर्बलाओं का…

1 week ago

फ़राग़ रोहवी की रचनाएँ

देखा जो आईना तो मुझे सोचना पड़ा देखा जो आईना तो मुझे सोचना पड़ा ख़ुद से न मिल सका तो…

1 week ago