Skip to content

Komal Rajeshwari

रंजना भाटिया की रचनाएँ

प्यासी है नदिया ख़ुद और प्यासा ही पानी है सुख -दुख के दो किनारों से सजी यह जिदंगानी है हर मोड़ पर मिल रही यहाँ… Read More »रंजना भाटिया की रचनाएँ

रंजना जायसवाल की रचनाएँ

आकांक्षा  स्त्री निचोड़ देती है बूँद-बूँद रक्त फिर भी हरे नहीं होते उसके सपने। जब मैं स्त्री हूँ (कविता)  मैं स्त्री हूँ और जब मैं… Read More »रंजना जायसवाल की रचनाएँ

शिवशंकर मिश्र की रचनाएँ

ईश्वर का दास आदमी ने पत्थ रों को काटकर चेहरे गढ़े पत्थ रों को समर्पित हुआ लड़ाइयाँ लड़ीं और समर्पण के बाद की प्रेरणाएँ लीं… Read More »शिवशंकर मिश्र की रचनाएँ

शिवराम की रचनाएँ

चाह  वह तट खोज रहा है मैं समन्दर वह दो गज ज़मीन मैं दो पंख नवीन उसे शांति की चाह है मुझे बगावत की तृप्ति-अतृप्ति… Read More »शिवराम की रचनाएँ

शिवदीन राम जोशी की रचनाएँ

होली के छंद होरी है होरी आज, खेलो ब्रजराज कृष्ण, ब्रजबाला संग रंग डारे बरजोरी है। राधा कृष्ण रंगे रंग, गुवालिये बजावे चंग, नांच रही… Read More »शिवदीन राम जोशी की रचनाएँ

शिवदीन राम जोशी

श्री हनुमत अष्टक  सुख सम्पति दायक, राम के पायक, सत्य सहायक, संकट हारी | ध्यान दे ज्ञान दे शक्ति दे भक्ति दे, मुक्ति सामिप्य दे… Read More »शिवदीन राम जोशी

शिवदीन राम जोशी की रचनाएँ

समझ मन अवसर बित्यो जाय समझ मन अवसर बित्यो जाय | मानव तन सो अवसर फिर-फिर, मिलसी कहाँ बताय || हरी गुण गाले प्रभु को… Read More »शिवदीन राम जोशी की रचनाएँ

शिवदीन राम जोशी की रचनाएँ

न भूल सके इतने मो मन माहीं बसे मन मोहन,और बसी मन राधिका रानी, नन्द यशोमती कौन बिसारत, गुवालन की छबि नाहीं भुलानी | बृज… Read More »शिवदीन राम जोशी की रचनाएँ

शिवदीन राम जोशी की रचनाएँ

कोऊ विधि मोहन का बन जाऊं कोउ विधि मोहन का बन जाऊँ । मोहन मेरा मैं मोहन का, प्रेम से गुण नित गाऊँ । प्रेम… Read More »शिवदीन राम जोशी की रचनाएँ

शिवदीन राम जोशी की रचनाएँ

कृष्ण सुदामा चरित्र  बन्दहुँ राम जो पूरण ब्रह्म है, वे ही त्रिलोकी के ईश कहावें। श्रीगुरु! राह कृपामय हो, हम पे नज़रें गुण को नित… Read More »शिवदीन राम जोशी की रचनाएँ