अहद प्रकाश की रचनाएँ

छुपम-छुपैया 

ताक-धिना-धिन मारे मैया जाड़े में,
चट कर भागी दूध बिलैया जाड़े में!

सिकुड़ी बैठी सोन चिरैया जाड़े में,
काँप रहे हैं बंदर भैया जाड़े में!

अटकुल-मटकुल हिरन के बच्चे देखो तो,
खेल रहे हैं छुपम-छुपैया जाड़े में!

बूढ़े बब्बा खाँस रहे हैं खटिया पर,
कब से ओढ़े हुए रजैया जाड़े में!

सूरज दद्दा माँग रहे हैं सुबह-सुबह,
गुड़ वाली अदरक की चैया जाड़े में!

हरे-भरे पेड़ों पर किरणें नाच रहीं,
तुम भी नाचो-गाओ भैया जाड़े में।

-साभार: नंदन, जनवरी, 1993, 18

सरल गिलहरी 

नीम की छैयाँ ता-था-थैया
आई गिलहरी देखो भैया,
दौड़ रही है, नाच रही है
खेल रही है खो-खो भैया!

ऊपर आती, नीचे जाती
डाली पर झटपट चढ़ जाती,
कुतर रही है जाने क्या यह
आहट पाते ही छिप जाती!

चंचल, सुंदर, सबसे न्यारी
प्यारी-प्यारी सरल गिलहरी,
माँ को बहुत भली लगती है
सिया-राम की चपल गिलहरी!

Share