कामिनी कौशल की रचनाएँ

रंग-रंग का खाना 

आज रात बिस्तर में लेटे
सोचा मैंने ध्यान लगाकर,
कितने रंग की चीजें खाईं
मैंने दिन भर मँगा-मँगाकर।
श्वेत रंग का दूध पिया था,
पीला मक्खन साथ लिया था।
फिर थे लाल संतरे खाए,
रंग-बिरंगे सेब चबाए।
आइसक्रीम गुलाबी चाटी,
भूरी चाकलेट भी काटी।
पेट भरा था हरी मटर से,
और लाल-लाल गाजर से।
मैंने इतना सब था खाया,
पेट अचानक फटने आया।
अगर कहीं सचमुच जाता फट,
इंद्रधनुष बाहर आता झट!

Share