जगदीश राज फ़िगार की रचनाएँ

मैंने जब तब जिधर जिधर देखा

मैं ने जब तब जिधर जिधर देखा
अपनी सूरत का ही बशर देखा।

रेत में दफ़्न थे मकान जहाँ
उन पे मिट्टी का भी असर देखा।

जब सुकूनत थी मेरी बर्ज़ख़ में
नेक रूहों का इक नगर देखा।

जो बरहना मुदाम रहता था
मैं ने मल्बूस वो शजर देखा।

अपने मस्लक पे गामज़न था जब
रौशनी को भी हम-सफ़र देखा।

मुझ पे था हर वजूद का साया
धूप को जब बरहना-सर देखा।

मुझ को एहसास बरतरी का हुआ
रिफ़अ’तों को जब इक नज़र देखा।

जिस की तौहीन की सितारों ने
मैं ने ऐसा भी इक क़मर देखा।

उस के रुख़ पर मिरा ही परतव था
मैं ने जिस को भी इक नज़र देखा।

उस की रूदाद बूम से पूछो
जो भी कुछ उस ने रात-भर देखा।

मेरी चिड़ियों से थी रिफ़ाक़त क्या
साफ़ सुथरा जो अपना घर देखा।

देखना था कि देव सा भी हूँ
चढ़ के कंधों पे अपना सर देखा।

आत्मा से जो राब्ता था मिरा
ज़ात अपनी में ईश्वर देखा।

बहर-ओ-बर से वो मुख़्तलिफ़ था ‘फ़िगार’
मैं ने मंज़र जो औज पर देखा।

ख़ानदानी क़ौल का तो पास रख

ख़ानदानी क़ौल का तो पास रख
राम है तो सामने बन-बास रख।

आस के गौहर भी कुछ मिल जाएँगे
यास के कुछ पत्थरों को पास रख।

तू इमारत के महल का ख़्वाब छोड़
ख़्वाब में बस झोंपड़ी का बास रख।

महज़ तेरी ज़ात तक महदूद क्यूँ
मौसमों के कैफ़ का भी पास रख।

दहर में माज़ी भी था तेरा न भूल
आने वाले कल में भी विश्वास रख।

तुझ को अपने ग़म का तो एहसास हो
अपने पहलू में दिल-ए-हस्सास रख।

दौलत-ए-इफ़्लास तुझ को मिल गई
दौलत-ए-कौनैन की अब आस रख।

मुब्तदी को लौह से है वास्ता
तू तो है अहल-ए-क़लम क़िर्तास रख।

बोस्ताँ सब को लगे तेरा वजूद
अपने तन में इस लिए बू-बास रख।

ये ज़माँ है तेज़-रौ घोड़ा नहीं
हाथ में अपने न उस की रास रख।

साहिब-ए-मक़्दूर है माना ‘फ़िगार’
ये तुझे किस ने कहा था दास रख।

Share