जयप्रकाश त्रिपाठी की रचनाएँ

अब का तुक्का-पुक्का फाड़ो 

अब का तुक्का-पुक्का फाड़ो
पढ़ो पहाड़ा भाईजी।
चुनाव चुक्का-मुक्का, लिक्खो
नया पहाड़ा भाईजी।

दिल्ली दाँत निपोरे टुकटुक
जो जीते, सबके जी धुकधुक
सुकपुक-सुकपुक पारा डोले
फूँके डाढ़ा भाईजी।

विदुर बिदोरे होंठ, कान से
खोंट खँगालें
इधर जाल, फिर उधर जाल
टप्पे-टप्प डालें
जय हो दिन्नानाथ
हुई ताधिन्ना धिन्ना, बिना बिमारी
छानैं काढ़ा भाईजी।

झनझन्ना सइकिल, हत्थी हत्थे से बाहर
छकछक्का पँजा पर अम्मा की डौंड़ाहर
फुलवा फुसरावै आगे तौ
चिल्ला जाड़ा भाईजी।

अशेष समर

मैंने जब-जब लिखना चाहा, कभी नहीं लिख पाया तुमको।
मैंने जब-जब पढ़ना चाहा, कभी नहीं पढ़ पाया तुमको।
तुम इतना क्यों ऐसे-ऐसे।
मैंने जब-जब सुनना चाहा, कभी नहीं सुन पाया तुमको,
मैंने जब-जब कहना चाहा, कभी नहीं कह पाया तुमको,
तुम इतना क्यों ऐसे-ऐसे।
मैंने जब-जब मिलना चाहा, कभी नहीं मिल पाया तुमसे,
संग-साथ जब जुड़ना चाहा, कभी नहीं जुड़ पाया तुमसे,
तुम इतना क्यों ऐसे-ऐसे।

लिखना-पढ़ना, कहना-सुनना, मिलना-जुलना रहा न सम्भव,
जन में तुम-सा, मन में तुम-सा, रचना के जीवन में तुम-सा,
सहज-सहज सा, सुन्दर-सुन्दर, मुक्त-मुक्त सा, खुला-खुला सा,
ओर-छोर तक युगों-युगों से आदिम बस्ती-बस्ती होकर,

शिशु की हँसी-हँसी में तिरते, रण में भी क्षण-प्रतिक्षण घिरते,
माँ के मुँह से लोरी-लोरी, युद्ध समय में गगन-गूँज तक,
आर्तनाद से घिरे-घिरे वे दस्यु न जाने अब तक तुमको
ठगने और लूटने वाले, वे समस्त जाने-अनजाने,

संघर्षों का वह इतिहास अधूरा अब भी
रक्तबीज सा, धर्मराज सा अथवा अब के राज-काज में
इस समाज में श्रम से, सीकर से, शोणित से सिंचित
जीवन के जंगल में खिंची-खिंची प्रत्यँचाओं पर

उत्तर में भी, दक्षिण में भी, धरती से नभ तक अशेष
जग को रचते-रचते, ढोते-ढोते थके न फिर भी, चले आ रहे,
चले आ रहे अन्तहीन, अविरल, अपराजित,
ऐसे किसी समय की निर्णायक बेला को,

उन सब के गाढ़े-गाढ़े सब अन्धेरों को ढँक देने को
उफन रहे आक्रोश लिये अन्तस में अपने रोष लिए
किलो, मठों के ढह जाने तक, टूट-टूट कर,
बिखर-बिखर कर उनका रौरव मिट जाने तक,

मैंने तुमको लिखना चाहा, पढ़ना चाहा, कहना चाहा, सुनना चाहा,
क्योंकि तुम, बस तुम हो ऐसे आओ-आओ, हम हैं इतने,
इतने हम हैं, इतने-इतने, हम हैं ऐसे,
आओ अभी अशेष समर है !

आगे-आगे कौवा नाचैं, पीछे से मुँहझौवा नाचैं

आगे-आगे कौवा नाचैं, पीछे से मुँहझौवा नाचैं,
हौवी नाचै, हौवा नाचैं, पी के अद्धा-पौवा नाचैं …
.
चारो ओर निखट्टू नाचैं, कुर्सी पर मुँह-चट्टू नाचैं,
महँगी उचक अटारी नाचै, एम०ए० पास बेकारी नाचै,
घर-घर में लाचारी नाचै, दिल्ली तक दुश्वारी नाचै
लट्टू ऊपर लट्टू नाचैं, राजनीति के टट्टू नाचैं,
गा-गाकर कव्वाली नाचैं, बजा-बजाकर ताली नाचैं…

गुण्डा और मवाली नाचैं, औ उनकी घरवाली नाचैं,
शहर-शहर उजियारी नाचैं, गाँव-गाँव अन्धियारी नाचै,
रहजन खद्दरधारी नाचैं, अफ़सर चोर-चकारी नाचैं,
गाल बजावत मल्लू नाचै, सिंहासन पर कल्लू नाचै,
ठोकैं ताल निठल्लू नाचै, मन्त्री बन के लल्लू नाचै …

छूरा नाचै, चाकू नाचै, पट्टी पढ़े-पढ़ाकू नाचैं,
चुटकीमार तमाखू नाचै, साधु वेश में डाकू नाचै
रात-रात भर टामी नाचै, मामा के संग मामी नाचै
उजड़े हुए असामी नाचैं, मालामाल हरामी नाचैं
ताकधिनाधिन ताकधिनाधिन ताकधिनाधिन त्ताआ …

 

 

Share