रामवचन सिंह ‘आनंद’ की रचनाएँ

पास हुए हम हुर्रे-हुर्रे

पास हुए हम, हुर्रे-हुर्रे!
दूर हुए गम, हुर्रे-हुर्रे!

रोज नियम से, किया परिश्रम
और खपाया भेजा।
धीरे-धीरे, थोड़ा-थोड़ा
हर दिन ज्ञान सहेजा।
थके नहीं हम, हुर्रे-हुर्रे!

हम कछुआ ही सही चले हैं
लगातार, पर धीमें,
हम खरगोश नहीं कि दौड़ें
सोएँ, रस्ते ही में।
रुका नहीं क्रम, हुर्रे-हुर्रे!

बात नकल की कोई हमने
कभी न मन में लाई,
सिर्फ पढ़ाई के बल पर ही
अहा सफलता पाई,
जीत गया श्रम, हुर्रे-हुर्रे!
पास हुए हम, हुर्रे-हुर्रे!

गौरैया

‘चीं-चीं, चहक चहक चूँ, चीं चीं,
गीत सुनाती गौरैया।
ढुमुक-ढुमुक ता थेई-थेई,
नाच दिखाती गौरैया।
भोली सादी नन्ही गुड़िया
सबको भाती गौरैया।
हम से-तुम से-इनसे, उनसे
कुछ बतियाती गौरैया।
बड़े सवेरे सारे घर को
रोज जगाती गौरैया।
‘चा’ पी लेती मुन्ना के संग
बिस्कुट खाती गौरैया।

Share