हरि मृदुल की रचनाएँ

सूरज लगे आग का गोला 

सूरज लगे आग का गोला
चंदा लगे कटोरी,
सूरज किरनें पीला सोना
लगे चाँदनी गोरी।
बड़ा अनोखा इंद्रधनुष है
सतरंगा चमकीला,
गोल-गोल कुछ झुका-झुका-सा
रंग-बिरंगा टीला।
ये पतंग है कैसी जिसकी
दीख पड़े ना डोरी!
आसमान में पंछी उड़ते
ऐसे साँझ-सवेरे,
लटक रही हो रस्सी जैसे
घर के ऊपर मेरे।
करे न कोई आपाधापी
करे न जोरा-जोरी!
कभी-कभी बादल आ जाते
जैसे धुनी रुई,
किसने धुना, कौन बतलाए
बातें हवा हुईं।
कौन बुलाता, कौन भेजता
इनको चोरी-चोरी!

लाल टमाटर, हरे टमाटर

लाल टमाटर, हरे टमाटर
सभी टमाटर गोल,
कितने रुपए किलो टमाटर
भैया, जल्दी बोल।

लाल टमाटर, हरे टमाटर
कितने लेने मोल,
अच्छे-ताजे, नए टमाटर
अपना थैला खोल।

लाल टमाटर, हरे टमाटर
एक किलो दे तोल,
लेकिन सब थे सड़े टमाटर
खुली अचानक पोल!

Share