बालमुकुंद गुप्त की रचनाएँ

रेलगाड़ी

हिस-हिस हिस-हिस हिस-हिस करती, रेल धड़ाधड़ जाती है,
जिन जंजीरों से जकड़ी है, उन्हें खूब खुड़काती है।
दोनों ओर दूर से दुनिया देख रही है बाँध कतार,
धुएँ के बल से जाती है धुआँ उड़ाती धूआँधार।
आग के बल से कल चलती है, देखो जी इस कल का बल,
घोड़ा टट्टू नहीं जुता कुछ, खेंच रही है खाली कल!

मात बगूलों को करती है, उड़ती है जैसे तूफान,
कलयुग का कल का रथ कहिए या धरती का कहो विमान।
पल में पार दिनों का रास्ता इसमें बैठे होता है,
कोई बैठ तमाशा देखे, कोई सुख से सोता है।
बैठने वाले बैठे-बैठे देखते हैं कितने ही रंग,
जंगल, झील, पेड़ बन पत्ते, नाव नहर-नदियों के ढंग।

जब गाँवों के निकट रेलगाड़ी को ठहरा पाते हैं,
नर-नारी तब आस-पास के कैसे दौड़े आते हैं।
हिस-हिस हिस-हिस धड़धड़ करती फिर गाड़ी उड़ जाती है,
सबको खबरदार करने को सीटी खूब बजाती है।

-साभार: भारत मित्र, 10 दिसंबर, 1904

प्रभात

चटक रहीं बागों में कलियाँ,
पंछी करते हैं रंगरलियाँ।
ग्वाल चले सब गायें लेकर,
बालक पढ़ते हैं मन देकर।
महक रही है खूब चमेली,
भौंरे आए जान अकेली।
सूरज ले किरनों की माला,
निकला सब जग किया उजाला।
ठंडी हवा लगे अति प्यारी,
क्या शोभा देती है क्यारी।
पत्ते यों ओस से जड़े हैं,
जैसे मोती बिखर पड़े हैं।
उठो बालको, हुआ सवेरा,
दूर करो आलस का डेरा।
मुँह धोओ, थोड़ा कुछ खाओ,
फिर पढ़ने में ध्यान लगाओ!

-साभार: गुप्त निबंधावली, स्फुट कविता, बाल विनोद-665

 

Share