ब्रज चन्द्र

ब्रज चन्द्र की रचनाएँ

होत ही प्रात जो घात करै नित

होत ही प्रात जो घात करै नित पारै परोसिन सोँ कल गाढ़ी ।
हाथ नचावत मुँड खुजावत पौर खड़ी रिस कोटिक बाढ़ी ।
ऐसी बनी नख ते सिख लौँ ब्रजचन्दजू क्रोध समुद्र ते काढ़ी ।
ईँटा लिये पिय को मग जोवति भूत सी भामिनि भौन मे ठाढ़ी ।

ब्रज चन्द्र का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।

 

Share