रामदुलारा सिंह ‘पराया’की रचनाएँ

कैसा जन्म दिवस

जन्म दिवस पर पापा मेरे
लाए खूब मिठाई,
मम्मी-पापा, मैंने खाई
जम कर खूब मिठाई!
पर दादी की थाली से जब-
गायब मिली मिठाई,
तब बरबस ही मेरी आँखें
छल-छल कर भर आई!
झट बोला पापा से जाकर
जन्म दिवस यह कैसा,
दादी माँ को नहीं दिया क्यों-
खाना सबके जैसा?

Share