श्यामकुमार दास की रचनाएँ

मैं बन जाऊँ तितली

इधर घूमती, उधर घूमती
इक नन्ही-सी तितली,
जाने किसको ढूँढ़ रही है
इक नन्ही-सी तितली।

कभी चली आती चौखट पर
कभी ठिठक रह जाती,
कभी घूमती मेरे सिर पर
गुन-गुन गाना गाती।
लगता सुध-बुध भूल गई हो,
इक नन्ही-सी तितली।

रंग-बिरंगे पंख हैं उसके
सिर पर है शृंगार,
रंग-बिरंगे फूलों पर ही
जाती है हर बार।
फूलों के संग घुल-मिल जाती,
इक नन्ही-सी तितली।

मेरे भी दो पंख हों ऐसे
दूर-दूर उड़ जाऊँ,
फूलों से खुशबू लेकर मैं
इधर-उधर फैलाऊँ।
बच्चे मेरे पीछे दौड़ें,
मैं बन जाऊँ तितली!

Share