ठाकुर ज्ञानसिंह वर्मा

ठाकुर ज्ञानसिंह वर्मा की रचनाएँ

वतन के वास्ते वतन के वास्ते बस जान घुला देंगे हम, गले को शान से फांसी पे झुला देंगे हम।…

2 months ago