शकुन्त माथुर की रचनाएँ

शकुन्त माथुर की रचनाएँ

दोपहरी  गरमी की दोपहरी में तपे हुए नभ के नीचे काली सड़कें तारकोल की अँगारे-सी जली पड़ी थीं छाँह जली…

3 months ago