शहाब सफ़दर

शहाब सफ़दर की रचनाएँ

बीनाओं को पलकों से हटाने की पड़ी है बीनाओं को पलकों से हटाने की पड़ी है शहकार पे जो गर्द…

3 months ago