शाज़ तमकनत

शाज़ तमकनत की रचनाएँ

अपनी अपनी शब-ए-तनहाई की तंज़ीम करें अपनी अपनी शब-ए-तनहाई की तंज़ीम करें चाँदनी बाँट लें महताब को तक़सीम करें मैं…

2 months ago